HOME BUY COURSES

LOGIN REGISTER




Or






The CAPTCHA image

Enter email to send confirmation mail






सकल घरेलू उत्पाद में गिरावट

Sun 31 May, 2020

हाल ही में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी आँकड़ों के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2019-20 की अंतिम तिमाही (जनवरी-मार्च) में भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 3.1% दर्ज की गई है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में GDP वृद्धि दर 4.2% के साथ 11 वर्षों के न्यूनतम स्तर पर आ सकती है, जो कि पिछले वित्तीय वर्ष (2018-19) में 6.1% थी।

पृष्ठभूमि

  • आँकड़ों के अनुसार, आठ कोर इंफ्रास्ट्रक्चर उद्योगों का उत्पादन भी अप्रैल माह में रिकॉर्ड 38.1 %घट गया, जबकि देश का राजकोषीय घाटा वित्तीय वर्ष 2019-20 में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के 4.6 % तक पहुँच गया है, जो कि मुख्यतः कम राजस्व प्राप्ति के कारण है।
  • भारत समेत विश्व की विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं पर इस लॉकडाउन का प्रभाव देखने को मिल रहा है, चूँकि आर्थिक गतिविधियाँ पूरी तरह से रुक गई हैं।

मुख्य बिंदु

  • वित्तीय वर्ष 2019-20 में सकल स्थायी पूंजी निर्माण (Gross Fixed Capital Formation- GFCF) में (-) 2.8 % नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गयी है। GFCF का आशय सरकारी और निजी क्षेत्र में स्थायी पूंजी पर किये जाने वाले शुद्ध पूंजी व्यय के आकलन से है।
  • जहाँ विनिर्माण क्षेत्र (-) 1.4 % निर्माण क्षेत्र  में (-) 2.2 % की नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई। हालाँकि इसी अवधी में कृषि और सरकारी खर्च में क्रमश: 5.9 % और 10.1 % की वृद्धि ने गिरती हुई अर्थव्यवस्था को संभालने का महत्त्वपूर्ण कार्य किया।
  • अप्रैल माह में विनिर्माण क्रय प्रबंधक सूचकांक (Purchasing Managers’ Index) 27.4 के निचले स्तर पर आ गया है, जो कि मार्च माह में 51.8 के स्तर पर था। वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में वस्तुओं और सेवाओं के निर्यात में 60 प्रतिशत की कमी आई है।

सकल घरेलू उत्पाद (Gross Domestic Product-GDP)

  • सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) एक विशिष्ट समय अवधि में देश की सीमाओं के भीतर उत्पादित सभी तैयार वस्तुओं और सेवाओं का मौद्रिक मूल्य है।
  • सकल घरेलू उत्पाद = उपभोग + सकल निवेश + सरकारी खर्च + (निर्यात - आयात), या
  • GDP = C + I + G + (X - M).